Latest Post

Metre Reader Vacancy 2024 SSC OTR Online Form 2024 RSMSSB Result 2024 Update SSC JE Online form 2024 RSMSSB CHO Answer key 2024 Oyo hotal new rule 2024 Kidnapping student in Kavya Dhakad Kota Rajasthan APO Bharti 2024 RSMSSB Anudeshk Bharti 2024 GHAR BAITHE PAISE KAISE KAMAYE Rajasthan anganwadi recruitment 2024 RSMSSB LDC Bharti 2024 4197 Post Delhi Home Guard Bharti 2023 Koo App kaise kamae paise with jackpot RSMSSB Animal Attendent Bharti Exam Date

चिकित्सा मंत्री एवं कोटा जिला प्रभारी श्री परसादी लाल मीना ने कोटा जिले के इटावा व सुल्तानुपर क्षेत्र में बाढ़  प्रभावित खरवन गांव पहुंचकर आवासीय क्षेत्रों एवं फसल खराबे की जानकारी ली तथा ग्रामीणों से रूबरू होकर उन्हें हर संभव सहायता समय पर उपलब्ध कराने के लिए आश्वस्त किया।

उन्होंने जिला कलक्टर व इटावा एसडीएम एवं सरपंच को लगातार बाढ से प्रभावित नागरिकों के पुनर्वास के लिये सिवायचक भूमि का चयन कर पुनर्वास के प्रस्ताव बनाने के निर्देश दिये ताकि बाढ़ से हमेशा के लिये छुटकारा मिल सके। उन्होंने इटावा विकास अधिकारी से प्रभावित परिवारों को आवास भोजन की व्यवस्था की जानकारी आवश्यकता पड़ने तक  स्कूल में रुके हुए है वही भोजन व्यवस्था जारी रखने के निर्देश दिये। ग्रामीणों ने बताया कि पानी के जलजले में सब कुछ चला गया अब सरकार से ही आस है ग्रामीणों ने आवास के मलबे को जिला प्रभारी मंत्री को दिखा कर शीघ्र सहायता दिलाने की मांग की।

विकास अधिकारी ने बताया कि चम्बल, कालीसिंध, पार्वती व सुखनी नदी से क्षेत्र के दो दर्जन से अधिक गांवो में काफी नुकसान है। इस पर प्रभारी मंत्री मीना ने अधिकारियों को जल्द से जल्द सर्वे कर मदद दिलाने के निर्देश दिए ताकि लोगो को मदद मिल सके।

चिकित्सा मंत्री खरवन पहुँचे तो गांव के बुजर्गाे ने कहा कि इस तरह का जल सैलाब कभी नही देखा। रात को एक बजे घरों को ऎसे ही छोड़कर जान बचाकर प्रशासन की मदद से यहाँ से गए थे। घरों में जो था सब बह गया। इस दौरान कुछ महिलाएं भी मंत्री के पास आई और बताया कि ऎसी विपदा तो जीवन मे कभी नही आई। प्रभारी मंत्री ने कहा कि सरकार लोगो की तकलीफ में हम साथ है चिंता न करे शीघ्र मदद मिलेगी।

चम्बल, कालीसिंध, पार्वती व सुखनी नदियों के जलस्तर ने इस बार अपने सारे रिकॉर्ड जल स्तर के तोड़ दिए क्षेत्र में नोनेरा, खरवन, गेता, किरपुरा, राजपुरा, हवाखेडली, रघुनाथपुरा, बम्बूलिया किरपुरा, बम्बूलिया, देलोद, ठिकरदा, निमोला, बेजपुर, मियाना, गोठड़ा, धनवा, गुड़ला, मदनपुरा, करवाड, पीपल्दा, झाड़ोल, खातोली व इटावा सहित कई नदी किनारे गांवो में हजारों मकानों में  बाढ़ से नुकसान हुआ है तथा प्रभावित लोग प्रशासन के आश्रय स्थलों में रुके हुए है।

क्षेत्र में इन नदियों में आई बाढ़ व लगातार बारिश से किसानों की फसलें लगातार बारिश से खराब हो गयी। क्षेत्र में इस बार सोयाबीन व उड़द की बुवाई के बाद से ही फसलें अच्छी नजर आ रही थी जिस पर किसानों की उम्मीद थी लेकिन लगातार बारिश से खेत भर गए फसलें अब धीरे धीरे पीली पड़ रही है। वही तम्बाकू इल्ली भी नजर आने से किसान चिंतित हैं। जिला प्रभारी मंत्री ने कृषि विभाग के अधिकारियों से किसानों को उपचार की जानकारी देने तथा बीमा योजना का लाभ लेने के लिए किसानों को सहयोग करने के निर्देश दिये।

चिकित्सा मंत्री व जिला प्रभारी मंत्री के साथ जिला कलक्टर श्री ओपी बुनकर सहित स्थानीय जनप्रतिनिधि संबंधित अधिकारी मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *